Hindi Shayari, Shayari In Hindi,

Best And Latest Hindi Shayari [ 100+ Shayari In Hindi ] हिंदी शायरी

यहां आपको फेसबुक और व्हाट्सएप पर अपने दोस्तों और अन्य प्रियजनों को भेजने के लिए सर्वश्रेष्ठ Hindi Shayari का खजाना मिलेगा।
तो आइये देखते हैं।

समझने ही नहीं देती सियासत हम को सच्चाई,
कभी चेहरा नहीं मिलता कभी दर्पन नहीं मिलता।

उसने होठों से छू कर दरिया का पानी गुलाबी कर दिया,
हमारी तो बात और थी, उसने मछलियों को भी शराबी कर दिया।

मैं खिल नहीं सका कि मुझे नम नहीं मिला,
साक़ी मिरे मिज़ाज का मौसम नहीं मिला।

सरक गया जब उसके रुख से पर्दा अचानक,
फ़रिश्ते भी कहने लगे, काश हम इंसान होते।

मुझ में बसी हुई थी किसी और की महक,
दिल बुझ गया कि रात वो बरहम नहीं मिला।

बस इतना ही कहा था की बरसों के प्यासे हैं हम,
उसने होठों पे होंठ रख के.. खामोश कर दिया।

बस अपने सामने ज़रा आँखें झुकी रहीं,
वर्ना मिरी अना में कहीं ख़म नहीं मिला।

बस इतना ही कहा था की बरसों के प्यासे हैं हम,
उसने होठों पे होंठ रख के.. खामोश कर दिया।

उस से तरह तरह की शिकायत रही मगर,
मेरी तरफ़ से रंज उसे कम नहीं मिला।

तेरे इश्क में इस तरह मैं नीलाम हो जाऊं!
आख़री हो तेरी बोली और मैं तेरे नाम हो जाऊं !!

एक एक कर के लोग बिछड़ते चले गए,
ये क्या हुआ कि वक़्फ़ा-ए-मातम नहीं मिला।

Hindi Shayari For Lover

पहली मोहब्बत के लिए दिल जिसे चुनता है,
वो पास हो न हो, दिल पर राज हमेशां उसी का रहता है!

दिल के दरिया में धड़कन की कश्ती है,
ख़्वाबों की दुनिया में यादों की बस्ती है,
मोहब्बत के बाजार में चाहत का सौदा है,
वफ़ा की कीमत से तो बेवफाई सस्ती है।

अब कोई ख्वाब नया दिल में उतरता ही नहीं,
बहुत ही सख्त पहरा है तुम्हारी चाहत का…

तेरे मुस्कुराने का असर सेहत पे होता है,
लोग पूछ लेते है दवा का नाम क्या है!

प्यार के दो मीठे बोल से खरीद लो मुझको,
दौलत दिखाई तो सारे जहाँ की कम पडेगी।

टेढ़ी बातों का सीधा सा जवाब
मैं बदतमीज मेरी आदतें ख़राब

रात भर करता रहा तेरी तारीफ़ चाँद से,
चाँद इतना जला की सुबह तक सूरज हो गया..

मेरी खामोशी बहुत कुछ कहती हे
कान लगाकर नहीं दिल लगाकर सुनो

we also have a tremendous collection of Sad Shayari and Bewafa Shayari in Hindi.

ज़िन्दगी यूँ ही बहुत कम है मोहब्बत के लिए,
फिर एक दूसरे से रूठकर वक़्त गँवाने की जरूरत क्या है।

जिस्म छूने से मोहब्बत नहीं होती
इश्क़ वो जज़्बा है जिसे ईमान कहते हैं

उनकी आँखों में लगा है सुरमा ऐसे जैसे,
चाकू पर लगायी हो धार किसी ने…!!

काँटों से गुजर जाता हूँ दामन को बचा कर,
फूलों की सियासत से मैं बेगाना नहीं हूँ।

हज़ार बार ली है तुमने तलाशी मेरे दिल की,
बताओ कभी कुछ मिला है इसमें प्यार के सिवा..!

होठों पे हंसी आती है, निगाहें झुक जाती है!
जब आप सामने आते हो, प्यास लबों की बुझ जाती है!

Love Hindi Shayari

बहुत ही खूबसूरत है तेरे अहसास की खुशबू,
जितना भी सोचते है, उतना ही महक जाते है!

सियासत इस कदर अवाम पे अहसान करती है,
आँखे छीन लेती है फिर चश्में दान करती है।

हम समंदर है हमें खामोश रहने दो
जरा मचल गए तो शहर ले डूबेंगे

शेरो शायरी कोई खेल नहीं जनाब
जल जाती है जवनियाँ लफ्जो की आग में

तेरी बात को खामोशी से मान लेना
ये भी अंदाज़ है मेरी नाराज़गी का

लोग दीवाने हैं बनावट के
हम सादगी लेकर कहाँ जाएँ

बिछड़ने की इतनी जल्दी थी उसे
खुद को आधा छोड़ गया मुझमे

बैठे थे अपनी मौज में अचानक रो पड़े
यू आकर तेरे ख्याल ने अच्छा नहीं किया

धुंध धुंध सा छाने लगा
जब वो मेरे पास से जाने लगा

Hindi Shayari Collection

सब कुछ तुम्हारे लिए माँगा है
इक तुम्हे मांगने बाद जाना

मेरी गलतियों को इग्नोर कर दिया करें
उखाड़ तो वैसे आप मेरा कुछ नहीं सकते

दिल तुम पे फ़िदा हुआ
कम्बख्त शौक से तबाह हुआ

नज़र में ज़ख़्म-ए-तबस्सुम छुपा छुपा के मिला,
खफा तो था वो मगर मुझ से मुस्कुरा के मिला।

वो हमसफ़र कि मेरे तंज़ पे हंसा था बहुत,
सितम ज़रीफ़ मुझे आइना दिखा के मिला।

मेरे मिज़ाज पे हैरान है ज़िन्दगी का शऊर,
मैं अपनी मौत को अक्सर गले लगा के मिला।

मैं उस से मांगता क्या? खून बहा जवानी का,
कि वो भी आज मुझे अपना घर लुटा के मिला।

मैं जिस को ढूँढ रहा था नज़र के रास्ते में,
मुझे मिला भी तो ज़ालिम नज़र झुका के मिला।

मैं ज़ख़्म ज़ख़्म बदन ले के चल दिया मोहसिन,
वो जब भी अपनी काबा पर कँवल सजा के मिला।

हमने हाथ फैला कर इश्क मांगा था,
सनम ने हाथ चूमकर जान निकाल दी..

ऐ सियासत तूने भी इस दौर में कमाल कर दिया,
गरीबों को गरीब अमीरों को माला-माल कर दिया।

नशा था उनके प्यार का, जिस में हम खो गए!
उन्हें भी नहीं पता चला, के कब हम उनके हो गए!

सोया हुआ है मुझमें कोई शख्स आज रात
लगता है अपने जिस्म से बाहर खड़ा हूँ मैं.

धागा ही समझ, तू अपनी “मन्नत” का मुझे
तेरी दुआओ के मुकम्मल होने का दस्तूर हूँ मैं

Hindi Shayari Love

इस शहर के अंदाज़ भी अजीब से हैं,
गूँगों से कहा जाता है बहरों को पुकारो.

एक तुम भी ना कितनी जल्दी सो जाते हो…
लगता है इश्क को तुम्हारा पता देना पड़ेगा.!!

मरहम लगा सको तो किसी गरीब के जख्मो पे लगा देना-हकीम बहुत है
बाजार में अमीरों के इलाज के खातिर

रूबरू होने की तो छोड़िए लोग गुफ्तगू से भी कतराते है
गुरूर ओढे है रिश्ते अपनी हैसियत पे इतराने लगे है

बरबाद कर देती है मोहब्बत हर मोहब्बत करने वाले को
क्यूकि इश्क़ हार नही मानता और दिल बात नही मानता

सियासत को लहू पीने की लत है,
वरना मुल्क में सब ख़ैरियत है।

किसी का हाथ थाम के छोड़ना नहीं,
वादा किसी से कर के तोड़ना नहीं,
कोई अगर तोड़ दे दिल आपका तो,
बिना हाथ पैर तोड़े उसे छोड़ना नहीं।

तूने छुआ मेरी रूह को, कुछ इस तरह…
कि सदियों तक वो तेरी, गुलाम बन गई…

एक आँसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है,
तुम ने देखा नहीं आँखों का समुंदर होना।

उनके होठों को देखा तब एक बात उठी जहन में,
वो लफ्ज़ कितने नशीले होंगे जो इनसे हो कर गुजरते है!

सियासत की दुकानों में रोशनी के लिए,
जरूरी है कि मुल्क मेरा जलता रहे।

अगर मैं जानता हूँ कि प्यार क्या है?
तो इसकी वजह सिर्फ तुम हो!

इन से उम्मीद न रख हैं ये सियासत वाले,
ये किसी से भी मोहब्बत नहीं करने वाले।

नज़र नवाज़ नजारों में जी नहीं लगता,
फ़िज़ा गई तो बहारों में जी नहीं लगता,
न पूछ मुझसे तेरे ग़म में क्या गुजरती है,
यही कहूंगा हजारों में जी नहीं लगता।

तुम्हारे साथ खामोश भी रहूं तो बातें पूरी हो जाती है…
तुम में, तुम से, तुम पर ही, मेरी दुनिया पूरी हो जाती है!

वक़्त नूर को बेनूर कर देता है,
छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,
कौन चाहता है अपनों से दूर रहना,
पर वक़्त सबको मजबूर कर देता है।

Hindi Shayari Sad

सुनो, कभी तुम नाराज हूए तो हम झुक जाएंगे,
और कभी हम नाराज हों तो आप गले लगा लेना।

किसी को दिल दीवाना पसंद है,
किसी को दिल का नजराना पसंद है,
औरों की तो मुझे ख़बर नही लेकिन,
मुझे तो अपनो का मुस्कुराना पसंद है।

होती अगर मोहब्बत बादल के, साये की तरह!
तो मैं तेरे शहर में कभी, धूप ना आने देता!

फसलों से अगर जीना सीख सकते हो तुम
तो तुम्हे इजाजतहै हम से दूरियाँ करने की

एक अजीब सी दौड़ है ये ज़िन्दगी,
जीत जाओ तो कई अपने पीछे छूट जाते हैं,
और हार जाओ तो अपने ही पीछे छोड़ जाते हैं।

वो पिला कर जाम लबों से अपनी मोहब्बत का,
अब कहते है, नशे की आदत अच्छी नहीं होती!

होने वाले ख़ुद ही अपने हो जाते हैं,
किसी को कहकर अपना बनाया नहीं जाता।

हमें हिंदी शायरी का शौक कहाँ
हम तो लिखते हैं फकत अन्दाज तेरे

हुई जो तेरे होठों की तलब,
हमने खिलता हुआ गुलाब चूम लिया !!

तेरे इश्क में दीवानी हूँ
तू है समां मैं तेरी परवानी हूँ

Hindi Shayari Dosti

जिन के आंगन में अमीरी का शजर लगता है,
उन का हर एब भी जमानें को हुनर लगता है।

सारी गलती हम अपनी किस्मत की कैसे निकल दें,
कुछ साथ हमारा तेरी अमीरी ने भी तोडा है।

तुमसे मिला था प्यार कुछ अच्छे नसीब थे,
हम उन दिनों अमीर थे जब तुम गरीब थे।

कैसे बनेगा अमीर वो हिसाब का कच्चा भिखारी,
एक सिक्के के बदले जो बेशकीमती दुआये दे देता है।

अमीरों के लिए बेशक तमाशा है ये जलजला,
गरीब के सर पे तो आसमान टूटा होगा।

मुझे गुमान था कि चाहा बहुत सबने मुझे,
मैं अज़ीज़ सबको था मगर ज़रूरत के लिए।

गर्मी की पहली-पहली बारिश सी तुम…
रूह ख़ुश हो जाती है, तुम्हारे आने से…

सो जा ऐ दिल कि अब धुन्ध बहुत है तेरे शहर में,
अपने दिखते नहीं और जो दिखते हैं वो अपने नहीं।

आज देखा है तुझको देर के बाद
आजका दिन गुजर न जाये कहीं

क्या लिखूं तेरे बारे में मेरी मोहब्बत…
कलम भी शरमा जाती है तेरी तारीफ़ में…

कुछ लोग तो इसलिये अपने बने हैं अभी,
कि मेरी बर्बादी का दीदार करीब से हो।